Rajasthan CM Bhajan Lal Sharma Biography in Hindi: प्रदेश के मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा की जीवनी

Rate this post

राजनीति में कुछ भी हो सकता है, यह सच होते हुए देखा गया 12 दिसंबर 2023 को जब राजस्थान का मुख्यमंत्री चुना गया।पवित्र भूमि राजस्थान के आदर्श नागरिक बजरंगलाल जी के नेतृत्व में, जो सदा ही अपने जनता के हित में प्रतिष्ठा से सेवा करते रहे हैं।उसी तरह आश्चर्य था जैसे कोई backbencher class में 1st आया हो।

आख़िर कौन हैं भजनलाल शर्मा? (who is Bhajanlal Sharma)

भजन लाल शर्मा राजस्थान के जयपुर शहर के ‘जवाहर’ क्षेत्र में निवासी हैं। उन्हें बाहरी होने के आरोप लगाए जा रहे थे, हालांकि इसके बावजूद वे ‘सांगानेर’ क्षेत्र से एक बड़ी जीत की हस्ताक्षर कर चुके हैं। 

उन्होंने कांग्रेस के प्रतिस्थापित प्रत्याशी ‘पुष्पेंद्र भारद्वाज’ को 48081 votes से हराकर यह भव्य जीत हासिल की।पूर्व मुख्यमंत्री ‘वसुंधरा राजे’ ने उनके नाम का प्रस्ताव दिया और सभी की सहमति से उन्हें मुख्यमंत्री के पद के लिए चुन लिया गया।

यह भी नाम थे जो CM की कतार में थे…..

गजेंद्र सिंह शेखावत, जो केंद्रीय मंत्री हैं, और वसुंधरा राजे सिंधिया, जो पहले भी राजस्थान की CM रह चुकी हैं, दोनों ही BJP के प्रदेश में सबसे अधिक प्रभावशाली नेताओं में शामिल हैं। ये दोनों नामी नेताएं राजस्थान की CM पद के लिए महत्वपूर्ण उम्मीदवार हैं।


युवराज विजय सिंह, शत्रुघ्न सिंह गौड़, जोधपुर की राजगद्दी से गायत्री राजकुमारी, रावण मिलन सिंघ, अजय सिंगार चौहान, मुकेश धोबी, जैसे कि मोहन लाल यादव, सुनील शर्मा, और संजय कुमार जैसे नामों का भी कयास लगाए जा रहे थे।

क्यूँ चुने गए भजनलाल शर्मा?

दरअसल, आपने सही कहा है कि राजस्थान में कई ऐसे प्रमुख नेता हैं जो आपन नाम बताए हैं। वास्तव में, यह इंतेहाई महत्वपूर्ण सवाल है कि भाजपा ने क्यों भजन लाल को चुना?

कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं को मद्देनज़र रखते हुए इस बात पर चर्चा की जाएगी:

1.जातिवाद

‘मध्‍यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ के CM ‘शिवराज सिंह चौहान’ और ‘रमन सिंह’ से भी जुड़ा हुआ है।’राज्‍य के यह तीनों प्रांतों में different castes के CM को चुना गया है, यह कदम उठाकर BJP द्वारा जातिगत समीकरण (caste equation) साधने की पूरी कोशिश की गई है।

राजस्थान में कोई ब्राह्मण को मुख्यमंत्री के पद की संभावना देकर एक बड़ा परिवर्तन देखने को मिल रहा है। यह एक संकेत है कि समग्र विकास के लिए, अधिकारियों को विभिन्न जातियों और समुदायों के प्रतिनिधित्व में सुनिश्चित करना जरूरी है। यह भारतीय नागरिकों के लिए गर्व का साधन है, जहां हर एक के अवसरों को समान रूप से मान्यता दी जाती है।

2.ब्राह्मणवाद:

ब्राह्मण वर्ग महामंत्री पद की तलाश में BJP द्वारा लिए जाए गए ‘Vote बैंक’ साबित हो चुके हैं परन्तु यदि एक नया दृष्टिकोण दिखाया जाए तो साल 1990 के बाद से राजस्थान में अब तक कोई भी ब्राह्मण CM उपलब्ध नहीं हुआ है। ‘हरिदेव जोशी’ ने राजस्थान में अपने कार्यकाल में आख़िरी ब्राह्मण CM का पद संभाला था।

वहीं राजस्थान में एक ब्राह्मण को Chief Minister बनाकर ब्राह्मण समाज को साधने की कोशिश की गई है। ब्राह्मण लोग दूसरे राज्यों में Deputy CM बने हैं, परंतु सीएम नहीं बने हैं। यह कदम upcoming lok sabha elections में ब्राह्मण समाज की रुचि को आकर्षित करने के लिए उठाया गया है।

सामान्य सहमति :

भजन लाल शर्मा को बढ़ावा देने का एक प्रमुख कारण यह भी था कि यदि भाजपा राजस्थान में राजपूत को मुख्यमंत्री बनाती है तो सत्ताधारी जाट राजनीतिज्ञ इस निर्णय से नाराज हो सकते हैं। ब्राह्मणों का राजस्थान में कोई संशय नहीं है।

भजनलाल शर्मा के गाँव और परिवार के बारे में जाने (Know about Bhajanlal Sharma’s village and family)

भजनलाल शर्मा भरतपुर ज़िले के अटारी गाँव के पुरख के हैं। उनके पिता ‘किशन स्वरूप शर्मा’ तथा माता ‘गोमती देवी’ हैं।उनकी पत्नी गीता शर्मा और 2 बेटे जिसमें बड़ा बेटा निजी नौकरी में है और छोटा बेटा डॉक्टर हैं।

Bhajan Lal Sharma Education(पढ़ाई)

भजनलाल शर्मा ने जयपुर में Rajasthan University से political science में post graduation की है।

भजन लाल शर्मा नेट वर्थ

भजनलाल शर्मा को राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने के बाद करोड़पति बना। उनके पास लगभग 1,46,56,666 रुपये की संपत्ति है। Elections के लिए affidavit में दी गई information के according उनके पास लगभग 1,15,000 रुपये cash और अलग-अलग बैंक खातों में करीब 11 लाख रुपये हैं।

Leave a Comment