प्रेमानंद महाराज के गुरु कौन हैं? जिनकी सच्चाई ने आज करोड़ों लोगों का दिल जीता

Rate this post

आज वृंदावन के प्रसिद्ध प्रेमानंद महाराज को हर कोई जानता है। प्रेमानंद महाराज के आशीष वचन और उनके वीडियो भी बहुत वायरल होते रहते हैं। प्रियमानंद माहराज को पूरी दुनिया जानती है, लेकिन आप शायद उनके गुरु के बारे में नहीं जानते। यह जानना दिलचस्प है कि महाराज ने किन के सच्चे मार्ग पर चला है।

प्रेमानंद महाराज और उनका गुरु कौन हैं?

प्रेमानन्द महाराज का जन्म कानपुर, उत्तर प्रदेश में हुआ था। पहले से ही महाराज के घर में बहुत भक्तिपूर्ण, शुद्ध और शांत वातावरण था। इससे भक्ति भी उनका रुझान बन गया। महाराज ने एक दिन सुबह 3 बजे 13 साल की छोटी उम्र में अपना घर छोड़ दिया। महाराज ने उस छोटी सी उम्र में, जब आम बच्चे पढ़ने के बारे में सोचते थे, उसी छोटी सी उम्र में भक्ति का रासता अपनाने का विचार किया। आज उनके पास देश के सबसे बड़े नामी गरामी लोग आते हैं। लेकिन प्रेमानंद महाराज के गुरु, वृंदावन के राधावल्लभ मंदिर के तिलकायत अधिकारी श्रीहित मोहित मराल महाराज जी, अब चर्चा में हैं।

प्रेमानंद महाराज

प्रेमानन्द महाराज हर बार अपने गुरु मोहित मराल महाराज जी से मिलते हैं, उनके पैर छूते हैं और उनसे आशीर्वाद लेते हैं। जब प्रेमानंद जी वाराणसी से वृन्दावन आए, उनका पहला काम श्री बांकेबिहारी का दर्शन करना था। महाराज एक बार परिक्रमा करते हुए एक महिला को संस्कृत के कुछ श्लोक गाते हुए देखा। लेकिन संस्कृत में पारंगत होने के बावजूद वे उस श्लोक का अर्थ नहीं समझ पाए।

तब प्रेमानंद महाराज ने उस महिला से उस श्लोक का अर्थ पूछा, तो उसने मुस्कुराते हुए कहा कि अगर वे इसे समझना चाहते हैं तो राधावल्लभी बनना होगा।प्रेमानंद महाराज फिर राधावल्लभ मंदिर गए, जहां वे मोहित मराल महाराज से मिले। प्रेमानंद महाराज का आदर सत्कार ग्रहण करने के बाद, मोहित मराल महाराज ने उनको एक शरणागत मंत्र के साथ दीक्षा भी दी।

प्रेमानंद जी के दूसरे गुरु

इसके अलावा, गौरांगी शरण महाराज प्रेमानंद महाराज जी का एक और गुरु है। इन्हें बड़े गुरुजी भी कहा जाता है। प्रेमानंद महाराज ने बहुत कोशिश की, लेकिन वहां की रसोपासना उन्हें समझ नहीं आई। इसके बाद, मायूस होकर गौरांगी शरण महाराज के पास पहुंचे, उन्होंने कहा कि सब ठीक हो जाएगा और उनके हाथ पर तीन उंगुली फेर दीं। फिर क्या हुआ? उस दिन से प्रेमानंद महाराज निरंतर आगे बढ़ते रहे और अब सब कुछ उनके सामने है।

Leave a Comment

प्रेमानंद महाराज की ये 7 बातें गांठ बंध लो
प्रेमानंद महाराज की ये 7 बातें गांठ बंध लो